24x7breakingpoint

Just another WordPress site

कोरोना के बाद रामदेव ने बनाई ओमिक्रोन की दवाई

हरिद्वार- पतजंलि योगपीठ ने अमिक्रोन पर दवाई बना लेना का दावा किया है। बुधवार को बाबा रामदेव ने मीडिया के सवालों का जबाब देते हुए इस बात का दावा किया। बाबा ने कहा ओमिक्रोन के ऊपर भी हमारा पहला रिसर्च पूरा हो गया है और ओमिक्रोन की 100% दवाई हमें तैयार कर ली है जो हमारे साइंटिस्ट की रात दिन के साथ का परिणाम है।

आपको बता दे कि इससे पहले भी बाबा रामदेव ने कोरोना को लेकर दवाई बनाने का दवा किया था जिसके बाद उन्हें काफी फाजियत झेलना पड़ा था।

कि 2 साल से पूरी दुनिया में सन्नाटा था पूरी मेडिकल संस्थाएं पूरा चिकित्सा तंत्र आधुनिक चिकित्सा तंत्र मिलकर के कोरोना की दवा ना बना पाया खाली वैक्सीन बनाई वह प्रिवेंशन है हमने करोना की भी दवाई बनाई थी और ओमिक्रोन के ऊपर भी हमारा पहला रिसर्च पूरा हो गया है और ओमिक्रोन की 100% दवाई हमें तैयार कर ली है जो हमारे साइंटिस्ट का रात दिन के साथ का परिणाम है।

पतंजलि योग पीठ स्थित 108 फूट के राष्ट्रीय ध्वज को फहराते समय आयोजित किए गए कार्यक्रम में बड़ी संख्या में योग गुरु बाबा रामदेव के अनुयायी पतंजलि का स्टाफ और स्कूली छात्र छात्राएं सभी धर्मों के धर्म गुरु मौजूद रहे।इस दौरान कई सांस्कृतिक कार्यक्रम भी प्रस्तुत किए गए।

इस दौरान योग गुरु बाबा रामदेव ने जहां एक और रावत और कल्याण सिंह को पदम पुरस्कार दिए जाने पर बधाई दी तो साथ ही राजनीति में जातियों धर्म और संप्रदाय के नाम पर ध्रुवीकरण को देश की एकता और अखंडता के लिए खतरा बताया।

योग गुरु बाबा रामदेव ने कहा कि जातियों धर्म और संप्रदाय के नाम पर ध्रुवीकरण देश की एकता अखंडता और संपदा के लिए खतरा है, इसलिए हमें राष्ट्र के नाम पर ध्रुवीकरण करना चाहिए विकास के नाम पर करना चाहिए, समाज को जोड़ने के नाम पर विचार करना चाहिए, तोड़ने के नाम पर नहीं।

योग गुरु बाबा रामदेव का कहना है कि विपिन रावत से लेकर के कल्याण सिंह और अनेक महापुरुषों जिन को आज पद्म पुरस्कार दिए गए हैं पूरा राष्ट्र उनका कृतज्ञ रहेगा, जिन्होंने देश के लिए जीवन को जिया। ऐसे महापुरुषों को जब पदम पुरस्कार दिए जाते हैं तो पुरस्कारों का और अभी गौरव बढ़ता है और लोगों को राष्ट्र के लिए बड़े कार्य करने की प्रेरणा मिलती है।

आज भारत ज्ञान शक्ति में, सैन्य शक्ति में, कृषि में, आईटी में ओर कई अलग-अलग सर्विसेज में बहुत आगे पहुंच चुका है लेकिन भारत की सबसे बड़ी दुर्बलता है जातिवाद और मजहबी उन्माद है उन्होंने कहा कि वे आज गणतंत्र दिवस पर पहले तो सारे राष्ट्र वासियों से यह आवाहन करता हूं कि एक भारतीय की भारतीयता ही मेरी जाती और भारतीयता ही धर्म हो।