May 22, 2024

24x7breakingpoint

Just another WordPress site

SIT arrested fourth accused in AE/JE paper leak case

कोचिंग सेंटर का बड़ा नाम करने को किया पेपर लीक

J.E./A.E. प्रश्न लीक मामले ने एसआईटी ने चौथी गिरफ्तारी की.

गिरफ्तार युवक रड़की में प्राइवेट कोचिंग सेंटर वाले चलाता था.

आरोपी ने पूछताछ में बताया गया कि अगर मेरी कोचिंग सेंटर से ज्यादा लड़के सेलेक्ट होंगे तो मेरे कोचिंग का नाम होगा.

खास खबर मां को पैसे की पड़ी जरूरत तो बेच दिया बच्चा

तभी ज्यादा लड़के मेरे कोचिंग सेंटर पर आएंगे

अगर मेरे सेंटर से लड़के सेलेक्ट नहीं होते हैं तो हम परीक्षा रद्द कराने के लिए पैसा देकर धरना प्रदर्शन भी करा देते है.

S.I.T. ने किया नकल माफिया और संदिग्ध कोचिंग सेंटर के गठजोड़ का भी खुलासा, प्रश्न लीक कराकर वसूलते थे मोटी रकम

किसी कारणवश चयन न होने पर पूरी परीक्षा निरस्त कराने का खेल भी आया सामने, कोचिंग इंस्टीट्यूट मालिक के संपर्क में थे कुछ छात्र संगठनों के लोग

यूपी में भी नकल सेंटर को खोज निकाली S.I.T. ने

इंस्टीट्यूट के संपर्क में आए छात्र संगठनों द्वारा परीक्षा लीक प्रकरण में पुनः परीक्षा के लिए गोपनीय सहयोग की बात भी आयी प्रकाश में

परीक्षाएं निरस्त होने पर छात्र कथित कोचिंग सेंटरों में साल भर लेते रहते हैं कोचिंग के लिए एडमिशन

हरिद्वार देहात क्षेत्र तथा देहरादून के कुछ संदिग्ध कोचिंग सेन्टर हैं SIT के रडार पर, परीक्षा निरस्त कराने के लिए फंडिंग के लिए कुछ छात्रों के बयानों में भी SIT को मिली ऐसे गठजोड़ की जानकारी

पूर्व में तीन अभियुक्तों के कब्जे से कुल 07 लाख रुपए की अवैध अर्जित नगदी और विभिन्न बैंकों के ब्लैंक चैक बरामद किए जा चुके है

प्रश्न लीक के साक्ष्य मिलने पर दिनांक 03.02.2023 को माननीय मुख्यमंत्री उत्तराखंड के आदेश पर थाना कनखल में दर्ज किया गया था मुकदमा

S.I.T. टीम ने पर्याप्त साक्ष्यों के आधार पर उक्त परीक्षा प्रश्न लीक आउट करने में विवेचना के दौरान प्रकाश में आए मुख्य अभियुक्त कोचिंग सेंटर संचालक विवेक ऊर्फ विक्की को गिरफ्तार करने में सफलता प्राप्त की गई है.

प्रारंभिक पूछताछ पर अभियुक्त द्वारा बताया गया कि यह वर्तमान में रुड़की में जीनियस नाम से कोचिंग सेंटर संचालित करता है जिसमें जेई के परीक्षार्थियों को परीक्षा की तैयारी करता है.

अधिक पैसे कमाने के लालच में इसके पेपर लीक करने वाले गिरोह में शामिल होकर कुछ अभ्यर्थी से पेपर देने के एवज में 19 लाख रुपए तय किए

जिनसे एडवांस के तौर पर कुछ धनराशि एवम ब्लैंक चेक लिए गए.

अवैध धनराशी में से कोचिंग सेन्टरों में LED आदि जिनका मुल्य करीब 8.5 लाख है.

About The Author