24x7breakingpoint

Just another WordPress site

महाशिवरात्रि पर भगवान भोले की ससुराल में जलाभिषेक का महत्व

भगवान भोले की ससुराल में श्रद्धालुओं का हुजूम, दक्षेश्वर महादेव मंदिर में जलाभिषेक का अदभुत आनंद

हरिद्वार-महाशिवरात्रि पर भक्तों का भगवान् भोले के मंदिरों में उमड़ना भी स्वाभाविक है| भोले शंकर की ससुराल दक्ष नगरी कनखल में शिवरात्रि की धूम है। कनखल के पौराणिक दक्षेश्वर महादेव मंदिर ओर हरिद्वार के अन्य शिवालयों में शिव भक्त और कांवङिये शिव का जलाभिषेक करने के लिए पहुंच रहे है| सुबह से ही शिव का जलाभिषेक करने के लिए भक्तो का मंदिर में ताता लगा है |कहा जाता है की पौराणिक नगरी भगवान् शंकर की ससुराल में स्थापित शिवलिंग दुनिया का पहला शिवलिंग है| जबकि विश्व विख्यात हर कि पोड़ी पर महाशिवरात्रि के स्नान के लिए देश भर से भक्त का सैलाब उमड़ा हुआ है| शिव की ससुराल कनखल में दक्ष मंदिर में भगवान शिव का जलाभिषेक करने के लिए शिव भक्त जुटने लगे हैं ।  कहा जाता है की माघ मास की चतुर्दशी के दिन ही भगवान शिव ने पृथ्वी लोक में रद्रावतार लिया था और आज ही के दिन शिव और शक्ति का मिलन भी हुआ था। इसीलिए  इस दिन को काफी खास माना जाता है। मान्यता है कि आज के दिन भोले शिव का जलाभिषेक करने और शिव की आराधना करने से उनके भक्तों की सभी मनोकामनाएं पूरी होती है।भगवान  शंकर की ससुराल यानि दक्ष नगरी कनखल में विश्व का पहला शिवलिंग दक्षेश्वर महादेव मंदिर में स्थापित है|

कनखल स्थित पौराणिक दक्षेस्वर महादेव मंदिर में  महाशिवरात्रि के दिन जलाभिषेक का विशेष महत्व है| यही कारण है की शिवालयों पर स्थानीय ही नहीं बल्कि देश भर से श्रद्धालु जलाभिषेक करने आते हैं| इनका मानना है की इस स्थान पर जलाभिषेक करने से सारे पाप कट जाते हैं और मन को शांति मिलती है|

BYTE:= ,श्रद्धालु ,हरिद्वार