March 1, 2024

24x7breakingpoint

Just another WordPress site

Haridwar police busted fake job center four arrested

फर्जी जॉब सेंटर का हरिद्वार पुलिस ने किया खुलासा चार गिरफ्तार

Haridwar police busted fake job center four arrested

एक और “फर्जी भर्ती सेंटर” का हरिद्वार पुलिस ने किया भंडाफोड़

जैतपुर लक्सर में चलाए जा रहे भर्ती सेंटर के 04 सक्रिय सदस्य दबोचे

बेरोजगार युवाओं के साक्षात्कार के लिए लखनऊ के नामी होटल किए जाते थे बुक

फिल्मी अंदाज में चल रहा था फर्जी ज्वाइनिंग लेटर बांटने का गोरखधंधा

सरकारी नौकरी का लालच देकर बेरोजगारों से ऐंठते थे लाखों की रकम, थमाते थे फर्जी ज्वाइनिंग लेटर

₹*60,000 की नगदी, मोबाइल फोन, कंप्यूटर, प्रिंटर, दर्जन से अधिक चेक बुक समेत कई फर्जी दस्तावेज बरामद

जिला जज कोर्ट समेत आयकर, स्वास्थ्य सहित कई अन्य विभागों के फर्जी नियुक्ति पत्र किए जाते थे जारी

DM हरिद्वार की फर्जी ईमेल ID तैयार कर, अभ्यर्थियों को ईमेल के माध्यम से भेजे जाते थे नियुक्ति पत्र

बेरोजगार युवाओं की भावनाओं से खेलकर लाखों का मुनाफा कमाने और फिर जिला कोर्ट, आयकर विभाग,

स्वास्थ्य विभाग सहित कई अन्य विभागों के फर्जी नियुक्ति पत्र जारी कर रहे सिंडिकेट से पर्दा उठाते हुए हरिद्वार पुलिस ने गिरोह से जुड़े 04 शातिर अभियुक्तों को दबोचने में सफलता हासिल की है।

ऐसे होता था महाठगी का सारा खेल

सरकारी नौकरी की बांट जोह रहे बेरोजगार युवाओं को फांसने के लिए यह गिरोह अखबारों में विज्ञप्ति निकालता था।

गिरोह का बकायदा एक चैनल (कम्युनिटी हेल्थ वर्कर एवं महिला कल्याण ट्रस्ट नई दिल्ली) बनाया गया था

जिसका मुख्यालय नई दिल्ली में तथा उसकी शाखा लखनऊ से संचालित होती थी

तथाकथित ट्रस्ट की एक शाखा कनखल जगजीतपुर में बनाई हुई थी जहां अभियुक्तों को विभिन्न पदों पर तैनात किया गया था।
बेरोजगार युवाओं के आवेदन मिलने पर उन्हें लखनऊ स्थित नामी होटल में इंटरव्यू और पेपर के लिए बुलाया जाता था

फिर जिला कोर्ट आदि विभागों के नाम से जारी फर्जी नियुक्ति पत्र देकर लाखों रुपए हड़प लिए जाते थे। फर्जी नियुक्ति पत्र ले दर-दर भटकने के बाद युवाओं को ठगी का अह्सास होता था।

हरिद्वार पुलिस का एक्शन

जनपद के विभिन्न थानों (रुड़की, लक्सर गंगनहर ज्वालापुर आदि) में मिली धोखाधड़ी की शिकायत मिलने पर संबंधित थाना कोतवाली में गंभीर धाराओं में मुकदमे दर्ज कर

उक्त गिरोह की कुंडली तैयार करने के सम्बन्ध में निर्देश देते हुए एसएसपी अजय सिंह द्वारा स्वयं पुलिस टीम गठित की गई एवं बारीकी से मॉनिटरिंग भी की जा रही थी।

जनपद में जगह-जगह चल रहे इस बड़े खेल पर फोकस करते हुए गठित पुलिस टीम ने लगातार एक्टिव रह कर सटीक सूचना के आधार पर कुल 04 अभियुक्तों को भारी मात्रा में इलैक्ट्रोनिक सामान कम्प्यूटर, सीपीयू, प्रिंटर, नकदी, घटना में इस्तेमाल किए जाने वाले कई मोबाइल फोन तथा अन्य दस्तावेज आदि के साथ दबोचा।
चिन्हित किए गए अन्य फरार अभियुक्तों की भी तलाश की जा रही है।

यह तथ्य प्रकाश में आया कि अभियुक्त खुर्शीद आलम चिश्तीHaridwar police busted fake job center four arrested कनखल हरिद्वार में हरिराम आश्रम की बिल्डिंग में हिल्ट्रोन कम्प्यूटर सैन्टर के नाम से कम्प्यूटर सेंटर का संचालन किया जा रहा था

जहां पर
मुख्य अभियुक्त अब्दुल कादिर पुत्र शहीद हसन निवासी जैतपुर थाना कोतवाली लक्सर जिला हरिद्वार,

सौरभ कुमार पुत्र रेशम सिहं निवासी लोधीवाला थाना झबरेडा जिला हरिद्वार व

दिनेश डोगरा पुत्र ब्रहमपाल सिंह निवासी-सुल्तानपुर लक्सर जिला हरिद्वार द्वारा कम्प्यूटर कोर्स किया जा रहा था।
जहां पर यह चारों एक दूसरे के संपर्क में आए।

अब्दुल कादिर द्वारा खुर्शीद आलम, सौरभ व दिनेश डोगरा एवं अपने अन्य साथी नरेन्द्र निवासी- तलहडी बुजुर्ग देवबंद उ0प्र0 की मुलाकात विजय श्रीवास्तव , हर्ष श्रीवास्तव (जिनका ऑफिस लखनउ उ0प्र0 में वेलंगटन चौराहे पर था) के साथ लखनउ में करायी।

विजय श्रीवास्तव व हर्ष श्रीवास्तव द्वारा उपरोक्त अभियुक्तों के साथ मिलकर कम्यूनिटी हेल्थ महिला कल्याण ट्रस्ट की आड में ऐसे युवक व युवतियों, जिन्हे सरकारी नौकरी की तलाश रहती है व

जिसके लिए बेरोजगार युवक/युवतियां मोटे पैसे भी खर्च करने को तैयार रहते हैं, को नौकरी दिलाने के नाम पर ठगी का खेल शुरू किया गया।

इसके लिए समाचार पत्रो में बकायदा नौकरी दिलाने के लिए विज्ञप्ति जारी की जाती थी।

खुर्शीद आलम के हिल्ट्रान कम्प्यूटर सेंटर में ही नौकरी दिलाने के नाम पर बेरोजगार युवको/युवतियों के इन्टरव्यू लिये गये व उन्हे जिला प्रभारी, ब्लॉक प्रभारी, पंचायत मित्र, पंचायत शिक्षिका के पद पर लाखो रूपये लेकर नियुक्ति दी गयी

व इसके अतिरिक्त उत्तराखण्ड एवं उत्तरप्रदेश में बेरोजगार युवको व युवतियों को जिला कलेक्ट्रेट, ड्रिस्ट्रिक कोर्ट, उपभोक्ता न्यायालय, इंनकम टैक्स विभाग, ओर्डनेंस फैक्टरी देहरादून में नौकरी दिलाने का झांसा देकर लाखो रूपये की ठगी की गयी व फर्जी नियुक्ति पत्र अभ्यर्थियों को थमाये गये।

जब अभ्यर्थियों द्वारा सम्बन्धित विभाग में जाकर नियुक्ति पत्र दिखाने पर भी नौकरी नहीं मिली और नियुक्ति पत्र फर्जी पाये गये व जब इसके सम्बन्ध में अभ्यर्थियों द्वारा गिरोह के सदस्यो से जानकारी की गयी तो उनके द्वारा “वैकेन्सी फुल” होने का कारण बताकर दूसरे विभाग का फर्जी नियुक्ति पत्र जारी किया जाता रहा व 01-01 अभ्यर्थी को कई-कई विभागो के फर्जी नियुक्ति पत्र जारी किये गये।

ठगी की जानकारी होने पर जब अभ्यर्थियों द्वारा गिरोह के सदस्यो पर हिल्ट्रान कम्प्यूटर सेंटर में जाकर दबाव बनाने पर गिरोह द्वारा तुरंत ही आफिस विकास कालोनी कनखल में किराये के कमरे पर शिफ्ट किया गया।

लेकिन पुनः अभ्यर्थियों का दबाव बढ़ने पर उक्त आफिस बंद कर मुख्य अभियुक्त अब्दुल कादिर ने जैतपुर लक्सर स्थित अपने घर से गिरोह का संचालन शुरु कर दिया।

पोस्ट के हिसाब से रेट

पकडे गये अभियुक्तों द्वारा बेरोजगार युवओं को सरकारी नौकरी दिलाने के नाम पर प्रत्येक पद के रेट तय किये गये थे। चपरासी के पद के लिए 05 लाख रूपये व क्लर्क के लिए 08 लाख रूपये व कार्यालय सहायक के लिए 10 लाख रूपये तय की गयी थी रकम।

About The Author