24x7breakingpoint

Just another WordPress site

द्वितिय संस्कृत अगले सत्र से Uttarakhand के सभी स्कलों में अनिवार्य

हरिद्वार (विकास चौहान)। उत्तराखंड (Uttarakhand) की द्वितीय राजभाषा संस्कृत है और इसके उत्थान के लिए अगले सत्र से ही सभी स्कूलों में संस्कृत विषय पढ़ाया जाना अनिवार्य कर दिया जायेगा यह कहना है उत्तराखंड (Uttarakhand) के शिक्षा मंत्री अरविन्द पांडेय का जो बुधवार को हरिद्वार के ओम ग्रुप ऑफ़ कॉलेज में, पंडित दीनदयाल उपाध्याय की जयंती समारोह में शिरकत करने पहुँचे थे।

खास खबर :— पथरी Police ने अपराधिक छवि वाले दो युवकों को पकड़ा,पिस्टल और तमंचा बरामद

इस अवसर पर पत्रकारों से वार्ता करते हुए शिक्षा मंत्री अरविन्द पांडेय ने कहा कि संस्कृत उत्तराखंड की द्वितीय राजभाषा है और उत्तराखंड में संस्कृत विलुप्त होती जा रही है। इसलिए सरकार की जिम्मेदारी बनती है कि इसका विस्तार हो, इसलिए उन्होंने फैसला लिया है कि उत्तराखंड के सभी शासकीय , अशासकीय और प्राइवेट स्कूलों में संस्कृत विषय पढ़ाया जाना अनिवार्य किया जाय। उन्होंने कहा कि अगले सत्र से क्लास 3 से क्लास 8 सभी स्कूलों में संस्कृत विषय पढ़ाया जाने का आदेश लागु कर दिया जायेगा।