24x7breakingpoint

Just another WordPress site

निर्भया के दोषी को फांसी बरकरार तो उत्तराखंड में भी इस बलात्कारी को होगी फांसी

निर्भया के दोषी को फांसी बरकरार तो उत्तराखंड में भी इस बलात्कारी को होगी फांसी

निर्भया के दोषी को फांसी बरकरार तो उत्तराखंड में भी इस बलात्कारी को होगी फांसी

नैनीताल(ब्यूरो)। मंगलवार को निर्भया के दोषियों को जंहा कोर्ट ने फांसी की सजा को बरकार रखा गया तो वहीं उत्तराखंड में भी दुष्कर्म के आरोपी की फांसी को बरकार रखा गया हैं।

नैनीताल हाईकोर्ट की खंडपीठ ने देहरादून में 10 साल की बच्ची से दुष्कर्म कर हत्या करने के दोषी को पॉक्सो कोर्ट की ओर से दी गयी फांसी की सज़ा को बरकरार रखा है। मामले की सुनवाई न्यायाधीश आलोक सिंह व रवींद्र मैठाणी की खंडपीठ में हुई। आरोपी जय प्रकाश के खिलाफ धारा 302, 201, 376, 377 में मुकदमा दर्ज है।

खास खबर—Haridwar Forest Division की और से कर्मचारियों को दिया गया ट्रेंकुलाइज करने का प्रशिक्षण

दरअसल 28 जुलाई, 2018 को देहरादून के थाना सहसपुर क्षेत्र में एक निजी कॉलेज के निर्माणाधीन भवन में एक मज़दूर की 10 साल की मासूम को चीज लेने के लिए 10 रुपये देने के बहाने अपनी झोपडी में में ले गया और बलात्कार करने के बाद मासूम की गला घोटकर हत्या कर दी। इसके बाद जयप्रकाश ने शव को ठिकाने लगाने के लिए कमरे के नीचे गड्ढा खोदकर पत्थरों और सीमेंट के बोरों से ढक दिया.

जब देर शाम तक बच्ची घर नहीं पहुंची तो माता-पिता ने पुलिस को सूचना दी. पुलिस ने तफ़्तीश के बाद जयप्रकाश की झोपडी से बच्ची का शव बरामद करने के बाद आरोपी को गिरफ़्तार किया जिसे पॉक्सो अदालत में पेश किया गया, पास्को कोर्ट ने फांसी की सज़ा सुनाई गई थी।

जिस पर आरोपी जय प्रकाश द्वारा फाँसी की सजा माफ किये जाने हेतु उच्च न्यायालय में 2019 में याचिका दायर की गई। जिसमें आज न्यायमूर्ति आलोक सिंह व न्यायमूर्ति रवींद्र मैठाणी की खंडपीठ में सुनवाई हुई निचली अदालत के फैसले की फाँसी की सजा बरकरार रखी रखा है।