24x7breakingpoint

Just another WordPress site

उत्तराखंड मित्र पुलिस बनी देवदूत तो पुलिस जीप में गूंजी नन्हे भोले की किलकारी

उत्तराखंड मित्र पुलिस बनी देवदूत तो पुलिस जीप में

उत्तराखंड मित्र पुलिस बनी देवदूत तो पुलिस जीप में गूंजी नन्हे भोले की किलकारी

हरिद्वार(अरुण शर्मा)। उत्तराखंड मित्र पुलिस एक ​महिला के लिए उस समय देवदूत बन गयी जब उसे प्रसव पिड़ा होने लगी। यही नहीं पुलिस की गाड़ी जो अब तक अपराधीयों को पकड़ने और लाने—ले जाने के उपयोग होती थी। वहीं गाड़ी न केवल एंबुलेंस बन गयी अपितु नन्हे भोले की किलकारी से गूंज उठी।

खास खबर—’मैन वर्सेस वाइल्ड’ में पीएम मोदी करेगें खतरनाक जगंली जानवरों का सामना

इस पूरी घटना में अहम रोल निभाने वाले ड्यूटी पर तैनात दरोगा कर्मवीर की काफी सराहना की जा रही हैं। उन्होने एंबुलेंस का इंतजार न करते हुए थाने की गाड़ी में महिला को बैठाया और जिला महिला अस्पताल ले जा रहे थे। लेकिन रास्ते में ही प्रसव हो गया और महिला ने गाड़ी में ही बच्चें को जन्म दे दिया। मां और बच्चा दोनो स्वस्थ्य है और उन्हे जिला अस्पताल भर्ती करा दिया गया हैं।

उत्तर प्रदेश के बदायूं की रहने वाली एक महिला अपने पति के साथ कांवड़ लेकर हरिद्वार आयी थी। नमामि गंगे घाट के पास से गुजरते समय महिला को अचानक तेज प्रसव पीड़ा शुरू हो गई और वह घाट के किनारे बैठकर दर्द से कराहने लगी। गर्भवती महिला को कराहता देख पुलिसकर्मियों ने वजह पूछी, तो पति ने बताया कि वह कांवड़ लेने आए थे और उसकी पत्नी गर्भवती है।

ड्यूटी पर तैनात दरोगा कर्मवीर आ गए। एंबुलेंस का इंतजार न करते हुए दरोगा ने थाने की गाड़ी में महिला को बैठाया और जिला महिला अस्पताल जाने लगे।

लेकिन रास्ते में महिला ने गाड़ी में ही बच्चे को जन्म दे दिया। दोनों को तुरंत जिला महिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है। श्यामपुर पुलिस की सूझबूझ से महिला और उसके नवजात शिशु का जीवन बचाया गया।