24x7breakingpoint

Just another WordPress site

भल्ला मैदान में हुई Cricket चयन प्रक्रिया पर उठाए सवाल, सब कुछ सही नही था

हरिद्वार (शिवा )। बीसीसीआई के घरेलू सत्र 2019—20 के लिए क्रिकेट (Cricket) एसोसिएशन आफ उत्तराखण्ड की सीनियर पुरूष विजय हजारे ट्राफी के लिए क्रिकेट  (Cricket)एसोसिएशन आफ हरिद्वार द्वारा जिला हरिद्वार के खिलाड़ियों का ट्रायल 28 से 30 अगस्त भल्ला कालेज स्पोर्टस स्टेडियम में आयोजित किया गया था। क्रिकेट एसोसिएशन आफ उत्तराखण्ड की और से हरिद्वार में आयोजित की गई चयन प्रक्रिया पर एक खिलाड़ी जो खुद पिछले वर्ष विजय हजारे ट्रॉफी उत्तराखंड की ओर से हिस्सा रहा है ने सवाल खड़े किए हैं उसका मानना है कि पिछले दिनों हरिद्वार में है आयोजित की गई यह है चयन प्रक्रिया निष्पक्ष नहीं थी और ना ही जिस ग्राउंड पर इस चयन प्रक्रिया को आयोजित किया गया वह भी अपने आप में उच्च स्तरीय नहीं था।

25 साल बाद भी मसूरी गोलीकांड के दोषियों नही मिली सजा
पिछले दिनों भल्ला कॉलेज में विजय हजारे ट्रॉफी के लिए हरिद्वार जिले के क्रिकेटरों का चयन किया गया जोकि आगे चलकर देहरादून में होने वाले ट्रायल में भाग लेंगे और फिर वहां पर चुने जाने वाली टीम उत्तराखंड की ओर से विजय हजारे ट्रॉफी में खेलेगी लेकिन हरिद्वार में जिस एसोसिएशन पर यह जिम्मेदारी सौंपी गई है उस पर पक्षपात करने का आरोप लग रहा है लगाने वाला कोई और नहीं बल्कि रोहन सहगल नाम का खिलाड़ी है जोकि पिछले वर्ष विजय हजारे ट्रॉफी के लिए उत्तराखंड की टीम का मेंबर रह चुका है रोहन ने आज प्रेस क्लब हरिद्वार में प्रेस वार्ता करते हुए कहा कि पिछले दिनों जो ट्रायल हरिद्वार में कराया गया और जिस ग्राउंड पर कराया गया वह मैदान और पिच किसी भी मायने में खिलाड़ियों और खेल के अनुकूल नहीं थी और जिस पिच पर यह मैच आयोजित किए गए वह केवल मिट्टी की थी जिस पर किसी भी तरह से कोई खिलाड़ी अपनी असली क्षमता को दिखाने में असफल ही रहेगा और ना ही उस पिच पर खिलाड़ी के होनर का ठीक से आकलन किया जा सकता था जिससे साफ होता है कि यह है चयन प्रक्रिया मात्र एक औपचारिकता ही थी और वास्तविक प्रतिभा खोजने का प्रयास नहीं थी यहां उन्होंने यह भी उम्मीद जताई कि उत्तराखंड को बीसीसीआई से पूर्ण मान्यता मिलने के बाद होने वाले ट्रायल बड़े स्तर पर होंगे जिसमें खिलाड़ियों को सभी सुविधाएं दी जाएंगी। लेकिन दुख की बात है कि इस बार हुए ट्रायल का स्तर बहुत ही नीचे गिरा दिया गया पत्रकारों से वार्ता करते हुए रोहन सहगल ने बताया कि उन्हें जानकारी मिली है कि जो खिलाड़ी पिछली बार राज्य टीम के लिए चयनित हुआ वह इस बार हरिद्वार जिला स्तर पर भी चयनित नहीं हो पाया जबकि वह पूर्ण रूप से स्वस्थ था जोकि चिंताजनक है यहां उन्होंने अपील की कि ट्रायल के लिए चयनकर्ताओं का चयन भी सभी बातों को ध्यान रखते हुए किया जाए ताकि हितों का टकराव ना हो और बिना किसी भेदभाव या असली प्रतिभा को आगे बढ़ने का मौका मिल सके