24x7breakingpoint

Just another WordPress site

कोतवाली पुलिस का अतिक्रमण के खिलाफ अभियान,लोगों में मचा हड़कंप

कोतवाली पुलिस का अतिक्रमण के खिलाफ अभियान,लोगों में मचा हड़कंप

कोतवाली पुलिस का अतिक्रमण के खिलाफ अभियान,लोगों में मचा हड़कंप

ऋषिकेेश(कमल खड़का)। कोतवाली पुलिस की ओर से बृहस्पतिवार को अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान ऋषिकेेश के बाहर अतिक्रमण हटवाया गया। कोतवाल रितेश शाह के नेतृत्व में यहां करीब तीन दर्जन ठेलियां, एक निजी दर्जन वाहन तथा एक दर्जन खोखे को हटवाए गए। बृहस्पतिवार को कोतवाल रितेश शाह पुलिस टीम के साथ एम्स के हुए अतिक्रमण हटवाने पहुंचे। यहां उन्होंने पहले लाउडस्पीकर से सभी कब्जेदारों को हटने की चेतावनी दी। हिदायत को कोई असर नहीं पड़ा तो करीब पौने घंटे बाद पुलिस ने बलपूर्वक ठेलियों, विक्रम और निजी एंबुलेंस वाहनों को हटवाना शुरू किया।

खास खबर—राज्य सरकार के खिलाफ हरदा का अभियोजन पत्र,मार्च से ऐसे होगी सरकार की घेराबंदी

कोतवाल रितेश शाह ने बताया कि पहले कब्जेदारों को चेतावनी दे दी गयी हैे। उसके बाद करीब एक घंटे के बाद अतिक्रमण हटाने का काम किया गया। अतिक्रमण के खिलाफ अभियान लगातार जारी रहेगा। उन्होने बताया कि ऋषिकेेश के अलग अलग जगहों पर अतिक्रमण हटाने का काम किया जायेगा। जिसमें फडों वाले और ठेलियां भी शामिल हैं। गुरुवार को शुरु हुए अभियान में कई स्थानों पर अतिक्रमण हटाओं अभियान चलाया गया।
1-एम्स अस्पताल के सामने
2-शिवाजी नगर जाने वाला मुख्य मार्ग पर कई वर्षों से अतिक्रमण करने वाले दुकानों/ ठेलियों/ फडों को हटाकर निम्नलिखित कार्रवाई की गयी।

1-पिछले बहुत वर्षो से अतिक्रमण करने वाले दुकानों/ ठेलियों/फडों को हटाया गया।

2- एम्स अस्पताल के बाहर खड़ी एंबुलेंसों को हटाकर एम्स परिसर के अंदर खड़ा करने हेतु नोटिस दिए गए।

3- एम्स अस्पताल के बाहर रोड किनारे पर बीमार व्यक्तियों एवं बाहर से आए लोगों हेतु बैठने के लिए बनी बेंचो (बैठने का स्थान) को खाली करवाया गया। जिन पर ढाबा एवं रेडी चलाने वाले लोगों का कब्जा था

4- शिवाजी नगर के मुख्य मार्ग पर “न्यू साईं मेडिकोज” नाम के मेडिकल स्टोर के सामने एवं रोड पर किए गए अतिक्रमण एवं पार्किंग व्यवस्था न होने पर अतिक्रमण व वहां खड़ी गाड़ियों को हटाकर सीआरपीसी की धारा 133 के अंतर्गत नोटिस दिया गया।

5-नो पार्किंग, यातायात व्यवस्था एवं अतिक्रमण न करने संबंधी स्लोगन के बोर्ड भी लगाये गए।

5- माइक के माध्यम से बोलकर लोगों को जागरूक करते हुए अतिक्रमण न करने के विषय में बताया गया।