24x7breakingpoint

Just another WordPress site

कांवड़ मेले की वास्तविक रंग में रंगती जा रही है।

कांवड़ मेले की वास्तविक रंग में रंगती जा रही है।

​हरिद्वार के व्यापारीयों का यह पुलिस साहयता केंद्र कांवडियों को पंहुचा रहा राहत

हरिद्वार(कमल खड़का)। धर्मनगरी अब कांवड़ मेले की वास्तविक रंग में रंगती जा रही है। प्रति पल कांवड़ मेले का रंग और भी गहरे होते जा रहे हैं। बुधवार को पंचक समाप्ति के साथ कांवड़ मेला भव्य रूप में दिखा। शिवभक्तों की धूम के बीच उनकी सेवा करने वाले लोगों में भी खासा उत्साह देखने को मिल रहा हैं।

खास खबर—प्रीतम सिंह के खिलाफ बयानबाजी इन बड़े नेताजी पड़ गयी भारी,होगी कार्यवाही

हर की पौड़ी के निकट सुभाष घाट पर व्यपारियो द्वारा पहली बार पुलिस सहायता केन्द्र खोला गया है। इस पुलिस साहयता केंद्र में पुलिस कर्मी कांवडियों की परेशानीयों को दूर करने का काम करते हैं।

शिवभक्तों की भारी ​भीड़ को देखते हुए व्यापारीयों ने यह निर्णय लिया कि गंगा किनारे इस तरह की पहल की जाय जिससे न केवल पुलिस को मदद मिले अपितु यहां आने वाले कांवडियों की भी मदद मिल सके।

मेले के सातवें दिन तक हरिद्वार पहुंचने और वापसी करने वाले अब तक के यात्रियों का आंकड़ा एक करोड़ पार कर गया। इन शिवभक्तों की सेवा के लिए भी उसी तरह से लोग आगे आ रहे है कंही कोई निशुल्क भोजन शिविर तो कोई चिकित्सा सेवा शिविर लगाकर इन शिवभक्तों की सेवा कर रहा हैं। इसी तरह की सेवा का एक जरिया सुभाष घाट के व्यापाारीयों ने निकाला है।

उन्होने सुभाष घाट पर पहली बार पुलिस साहयता केंद्र खोला हैं। उन्होंने कहा कि सनातन धर्म में दान से बड़ा कोई पुण्य नहीं है। क्षेत्र के लोगों ने कांवड़ यात्रियों के लिए जो निश्शुल्क भोजन की व्यवस्था की है वह सराहनीय है।

व्यापाारी आदेश मारवाड़ी ने कहा कि यह आस्था और भक्ति ही है कि जो शिव भक्तों को इतनी शक्ति देती है। देश के अलग-अलग जगहों से लोग हरिद्वार से गंगाजल लेकर पैदल चलकर एक लंबी दूरी तय करते हैं।

और राजू वधावन ने बताया कि शिवभक्तों की सेवा में लगे हुए पुलिसकर्मीयों के लिए यह पुलिस साहयता केंद्र साहयक साबित हो रहा हैं। इस केंद्र में बैठकर पुलिसकर्मी ओर भी बेहतर तरीके से कार्य कर पा रहे हैं।

उनकी इस तरह से सेवा कर उनके इस पुण्य लाभ में वे भी भागीदार होने का प्रयास कर रहे हैं। बन्टी अरोड़ा ने कहा कि यह एक अलग तरीका है भोले की सेवा करने का उन्होने कहा कि हमारा तरीका अलग जरुर हो सकता है लेकिन उददेश्य एक ही है भोले की सेवा करना।