24x7breakingpoint

Just another WordPress site

गन्ने के Payment पर नही बनी बात, 13 सितंबर को लक्सर में किसान देंगे धरना।

जाने आलम(लक्सर)|लक्सर में सरकारी विभागों में बढ़ते भ्रष्टाचार व आम आदमी की बढ़ती परेशानी को देखते हुए लक्सर की किसान संघर्ष समिति ने 11 सूत्रीय मांगपत्र लक्सर तहसीलदार को सौंपा था जिसमें आगामी 13 तारीख को लक्सर में चक्का जाम करने की चेतावनी दी गई थी। किसान संघर्ष समिति की उपलब्धियों व जनसेवा के कार्यो को देखते हुए लक्सर उप जिलाधिकारी पूरण सिंह राणा ने संबंधित विभागों के साथ किसान संघर्ष समिति के एक प्रतिनिधिमंडल के साथ बैठक की। बैठक में सभी 11 बिंदुओं पर बात की गई । 10 बिंदुओं पर तो बात लगभग सफल रही लेकिन किसानों की सबसे अहम समस्या गन्ना भुगतान (Payment ) पर वार्ता सफल नहीं हो सकी, जिसका मामला अधर में लटका गया। नाराज किसान संघर्ष समिति के पदाधिकारियों ने प्रशासन को शुगर मिल के गेट पर निर्धारित तिथि पर धरना देने की चेतावनी दी है।

किसान संघर्ष समिति के अध्यक्ष चौधरी कीरत सिंह ने बताया कि हमने तहसील कार्यालयों में भ्रष्टाचार, पीडब्ल्यूडी कार्यालय में भ्रष्टाचार, टूटी सड़कें जैसे 11 बिंदुओं को लेकर लक्सर प्रशासन को ज्ञापन दिया था जिसमें आगामी 13 तारीख को चक्का जाम करने तक की चेतावनी दी गई थी। लेकिन समय रहते उप जिलाधिकारी पूरण सिंह राणा ने संबंधित विभागों के अधिकारियों के साथ बैठक कराई जिसमें 10 बिंदुओं पर हमारी बात सफल रही। लेकिन गन्ना भुगतान को लेकर शुगर मिल लक्सर के कर्मचारियों के साथ हमारी वार्ता सफल नहीं हो सकी। जिसके लिए वो आगामी 13 तारीख को शुगर मिल गेट पर धरना देंगे। और शुगर मिल कर्मचारियों को न हीं तो बाहर आने देंगे और ना ही किसी को अंदर जाने देंगे।

वही लक्सर के अधिवक्ताओ की संस्था बार एसोसिएशन, किसान संघर्ष समिति के समर्थन में उतरे आई है। बार एसोसिएशन के अध्यक्ष एडवोकेट स्वतंत्र कुमार ने कहा कि अधिकारियों के साथ जिन बातों को लेकर वार्ता सफल रही, अधिकारी घंटों तक उन बातों को लेकर घुमाते रहे, किसान संघर्ष समिति नहीं मानी तो अधिकारियों को घुटने टेकने पड़े और उन्हें किसान संघर्ष समिति की बात माननी पड़ी। लक्सर बार एसोसिएशन किसानों के साथ है।

वही इस बैठक में वार्ता के दौरान मध्यस्थता निभा रहे लक्सर उप उपजिलाधिकारी पूरण सिंह राणा ने कहा कि सभी 11 बिंदुओं पर चर्चा की गई , जिसमें 10 बिंदुओं पर वार्ता सफल हो गई है लेकिन गन्ना भुगतान को लेकर अभी मामला अटका हुआ है। इसको भी सुलझाने की कोशिश की जा रही है